Rafale Fighter Jet Deal : क्यों है विवादों में राफेल डील, कांग्रेस ने सौदे की निष्पक्ष और गहन जांच की मांग की

केंद्र की मोदी सरकार द्वारा देश के रक्षा उपकरणों में बढ़ोत्तरी और भारतीय वायुसेना की ताकत बढ़ाते हुए फ़्रांस से फाइटर विमान राफेल का सौदा किया था। जिसमें से 14 राफेल भारत आ गए हैं, शेष आने हैं।

Rafale Fighter Jet Deal :  क्यों है विवादों में राफेल डील, कांग्रेस ने सौदे की निष्पक्ष और गहन जांच की मांग की

केंद्र की मोदी सरकार द्वारा देश के रक्षा उपकरणों में बढ़ोत्तरी और भारतीय वायुसेना की ताकत बढ़ाते हुए फ़्रांस से फाइटर विमान राफेल का सौदा किया था। जिसमें से 14 राफेल भारत आ गए हैं, शेष आने हैं। राफेल खरीद में भ्रष्टाचार का आरोप लगते हुए कांग्रेस पहले भी केंद्र सरकार को घेर रही थी और अब एक बार फिर वह राफेल खरीद पर भाजपा को निशाने पर ले रही है। कांग्रेस ने फ़्रांसिसी मीडिया की एक खबर का हवाला देते हुए राफेल सौदे में एक बिचौलिये को 11 लाख यूरो यानी करीब 9.5 करोड़ रुपये का भुगतान किए जाने का आरोप लगाया।

कांग्रेस ने मांग की है कि, विमान सौदे की निष्पक्ष और गहन जांच होनी चाहिए। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि, फ्रांस के एक समाचार पोर्टल ने अपने नए खुलासे से कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के इस रुख को सही साबित किया है कि, राफेल विमान सौदे में भ्रष्टाचार हुआ है।

सुरजेवाला ने आगे कहा कि, फ्रांसीसी पोर्टल की एक खबर के मुताबिक, फ्रांसीसी भ्रष्टाचार निरोधक एजेंसी ने खुलासा किया है कि, वर्ष 2016 में राफेल विमान सौदे पर हस्ताक्षर होने के बाद राफेल की निर्माता कंपनी दसॉ ने एक भारतीय बिचौलिया इकाई-डेफसिस सॉल्यूशंस को 11 लाख यूरो का कथित तौर पर भुगतान किया था।

हालांकि, बीजेपी ने राफेल विमान सौदे में भ्रष्टाचार के कथित आरोपों को पूरी तरह निराधार करार दिया है। राफेल विमान खरीद में भ्रष्टाचार के कांग्रेस के आरोपों के संबंध में बोलते हुए केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि, विपक्षी दल ने 2019 के लोकसभा चुनाव में भी इसे एक बड़ा मुद्दा बनाया था लेकिन उसे करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा था।