Haridwar Kumbh Mela 2021 : इस बार कुंभ में किन्नर अखाड़ा सुर्खियों में , जाने पूरी खबर में

राजधानी से सोमवार को धर्मनगरी हरिद्वार में महाकुंभ मेले 2021 का श्रीगणेश हो गया है। वही जिसमें कुंभ नगरी हरिद्वार में कुंभ के आगाज के साथ पिछले 1 सप्ताह से लगातार पेशवाई निकालने का सिलसिला चल रहा है। जिसमें हरिद्वार नगरी के शहर वासियों ने पेशवाई के दौरान साधु संतों का पुष्प वर्षा के साथ जोरदार स्वागत किया। धर्म नगरी हरिद्वार में होने वाले इस बार कुंभ में किन्नर अखाड़ा लगातार सुर्खियों में बना हुआ है। वहीं इसी के साथ दूसरी और रविवार को जूना अखाड़े की छावनी के साथ ही किन्नर अखाड़े के संतों के साथ नगर वासियों और हरिद्वार में श्रद्धालुओं ने उनका आशीर्वाद प्राप्त करने का तांता लगा हुंआ है।

Haridwar Kumbh Mela 2021 : इस बार कुंभ में किन्नर अखाड़ा सुर्खियों में , जाने पूरी खबर में

 राजधानी से सोमवार को धर्मनगरी हरिद्वार में महाकुंभ मेले 2021 का श्रीगणेश हो गया है। वही जिसमें कुंभ नगरी हरिद्वार में कुंभ के आगाज के साथ पिछले 1 सप्ताह से लगातार पेशवाई निकालने का सिलसिला चल रहा है। जिसमें हरिद्वार नगरी के शहर वासियों ने पेशवाई के दौरान साधु संतों का पुष्प वर्षा के साथ जोरदार स्वागत किया। धर्म नगरी हरिद्वार में होने वाले इस बार कुंभ में किन्नर अखाड़ा लगातार सुर्खियों में बना हुआ है। वहीं इसी के साथ दूसरी और रविवार को जूना अखाड़े की छावनी के साथ ही किन्नर अखाड़े के संतों के साथ नगर वासियों और हरिद्वार में श्रद्धालुओं ने उनका आशीर्वाद प्राप्त करने का तांता लगा हुंआ है।

वही इस दौरान किन्नर अखाड़ा में पहुंचकर किन्नर अखाड़ों के संतों से कुंभ को लेकर हमारे न्यूज़ पोर्टल के संपादक कीे एक वार्ता के दौरान जिसमें उन्होंने बताया कि उत्तराखण्ड में यह किन्नर संतो का यह पहला कुंभ है। कोरोना की गाइडलाइन का सभी पालन करे। और सभी लोगा कुंभ स्नान का लाभ उठाए। 

किन्नर संत प्रद्रा नंदगिरी का कहना है कि किन्नर कोई अलग नहीं हैं, समाज का ही एक अंग है। मुख्यधारा समाज को यह बात सोचनी चाहिए।  सभी को कुंभ की शुभकामनाएं दी, इसी के साथ किन्नर अखाड़ा की आचार्य महामंडलेश्वर लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी ने अपना वीडियो संदेश जारी करते हुए बड़ा बयान देते हुए कहा है कि हरिद्वार में होने वाले कुंभ में किन्नर अखाड़ा जूना अखाड़े के साथ ही नगर प्रवेश और शाही स्नान करेगा। वही जिस तरह 2019 में प्रयागराज में उन्होंने जूना अखाड़े के साथ मिलकर कुंभ में शाही स्नान व पेशवाई निकाली थी उसी तरह हरिद्वार में होने वाले कुंभ में भी वह जूना अखाड़े के साथ ही रहेंगी। इस पर उन्होनें के यह भी कहा कि इस वर्ष कुंभ में किन्नर अखाड़ा की ओर से सभी को कुंभ स्नान करने के लिए कहा गया ।

इसी के साथ तथा देश की सुरक्षा और तरक्की एवं स्वस्थ की किन्नर अखाड़ों ने कामना की। वही दुसरी ओर किन्नर संत ने जानकारी देते हुए कहा कि में दिल्ली में अखाड़ा के पदाधिकारियों की एक बैठक हुंई थी। जिसमें सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया कि हरिद्वार महाकुंभ 2021 के दौरान नगर प्रवेश, पेशवाई, किन्नर अखाड़ा जूना अखाड़ा के साथ करेगा और शाही स्नान भी करेगा। वही इसी के साथ आचार्य महामण्डलेश्वर स्वामी लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी ने यह भी कहा कि यह बहुत बड़ा सौभाग्य है कि जूना अखाड़ा दण्डी संत.महात्माओं कोभी हरिद्वार में अपने साथ जोड़ लिया है। और वह लोग भी नगर प्रवेश और शाही स्नान करेंगे।

 
अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी ने बयान दिया कि अगर जूना अखाड़ा किन्नर अखाड़ा को अपने साथ स्नान में भाग लेने की अनुमति देता है तो उन्हें कोई शिकायत नहीं। उन्होंने किन्नर अखाड़ा को अलग अखाड़े के रूप में मान्यता देते हुए हरिद्वार कुंभ में शिरकत करने की अनुमति दिए जाने का विरोध किया।


 महंत नरेंद्र गिरी  ने कहा, हरिद्वार कुंभ मेला अधिष्ठान से किन्नर अखाड़ा को ऐसी किसी भी अनुमति न देने का आग्रह भी किया गया है। जिस पर किन्नर अखाड़ा की संत ने यह भी बताया कि  अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के महामंत्री महंत हरिगिरि महाराज  जो कार्य कर रहे हैं। आने वाली सदियों और इतिहास में उनका नाम स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा।