Bihar Vidhan Sabha News : बिहार विधानसभा में दिन में तांडव और रात को सांस्कृतिक कार्यक्रम

बिहार में अजब-गजब राजनीतिक घटनाक्रम देखने को मिल रहा है। विपक्षी विधायक बिहार विशेष सशस्त्र पुलिस विधेयक का विरोध करते हुए स्पीकर की कुर्सी तक पहुंच गए तो सुरक्षाकर्मियों ने आरजेडी के विधायकों की जमकर पिटाई कर दी। बिहार विधानसभा में इतना हंगामा होने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, डेप्युटी सीएम तारकिशोर प्रसाद सहित कैबिनेट के कई अहम मंत्री शाम में सांस्कृतिक कार्यक्रम का लुत्फ उठाते और भोज का आनंद लेते हुए देखे गए।

Bihar Vidhan Sabha News : बिहार विधानसभा में दिन में तांडव और रात को सांस्कृतिक कार्यक्रम

बिहार में अजब-गजब राजनीतिक घटनाक्रम देखने को मिल रहा है। विपक्षी विधायक बिहार विशेष सशस्त्र पुलिस विधेयक का विरोध करते हुए स्पीकर की कुर्सी तक पहुंच गए तो सुरक्षाकर्मियों ने आरजेडी के विधायकों की जमकर पिटाई कर दी। बिहार विधानसभा में इतना हंगामा होने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, डेप्युटी सीएम तारकिशोर प्रसाद सहित कैबिनेट के कई अहम मंत्री शाम में सांस्कृतिक कार्यक्रम का लुत्फ उठाते और भोज का आनंद लेते हुए देखे गए।

बजट सत्र के संपन्न होने की पूर्व संध्या पर बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा ने विधानसभा में ही सांस्कृतिक कार्यक्रम वसंतोत्सव का आयोजन कराया था। इस कार्यक्रम में सत्तापक्ष और विपक्ष दोनों खेमे के नेताओं को आमंत्रित किया गया था। लेकिन विधानसभा में आरजेडी नेताओं की मार्शल और पटना पुलिस के हाथों पिटाई की घटना से नाराज होकर विपक्षी नेता कार्यक्रम में नहीं पहुंचे।

वसंतोत्सव में बिहार के स्थानीय कलाकारों ने रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए। मुख्यमंत्री नीतीश, डेप्युटी सीएम तारकिशोर प्रसाद व रेणु देवी समेत कैबिनेट के तमाम सदस्य और एनडीए खेमे के विधायक इस कार्यक्रम में शामिल हुए। सभी लोगों ने यहां भोजन किया उसके बाद अपने-अपने घर को रवाना हुए।

इसी मामले में कांग्रेस विधायक दल के नेता अजित शर्मा ने कहा कि सदन के अंदर और बाहर जो कुछ भी हुआ इसके बाद भोज में शामिल होने का कोई मतलब नहीं था। विपक्ष की ओर से कहा गया है कि इसी से समझा जा सकता है कि नीतीश कुमार किस किस्म की सरकार चला रहे हैं। पहले उन्होंने विधानसभा में लोकतांत्रिक व्यवस्था को कुचलते हुए विपक्षी नेताओं को पुलिस से पिटवाया और दूसरी तरफ भोज लुत्फ उठाया। ये दोनों बातें इस सरकार की मानसिकता को दर्शाता है।

यहां बता दें कि विपक्षी दल बुधवार को भी विधानसभा में विरोध कर रहे हैं। विपक्ष के करीब 112 विधायक सदन के बाहर विरोध के नाम पर अपनी कार्यवाही चला रहे हैं। इस कार्यवाही में भूदेव चौधरी को स्पीकर चुना गया है। विपक्षी नेताओं का कहना है कि जबतक आरोपी पुलिस अफसरों और पटना के डीएम पर कार्रवाई नहीं होती है तब तक वह सदन का बहिष्कार करेंगे।